रोटी जितना जरूरी हैं सूर, तुलसी, मीरा, कबीर: हरियश राय
mm 7 Rang
October 7, 2019

अमर भारती काव्योत्सव में उर्वशी अग्रवाल की कविता 'मी टू' ने बटोरी सराहना 

गाजियाबाद। रोटी, कपड़ा और मकान के बाद आदमी की सबसे बड़ी जरूरत साहित्य है। समाज के लिए बुनियादी सुविधाओं के साथ तुलसी, सूर, कालिदास, शेक्सपियर, मिल्टन, प्रेमचंद, क

गांधी आज और भी प्रासंगिक: संतोष ओबराय
mm 7 Rang
October 3, 2019

सिल्वर लाइन प्रेस्टीज स्कूल के बच्चों ने 150वीं जयंती पर बापू को दी श्रद्धांजलि

गांधी जयंती एवं नवरात्र के मौके पर गाजियाबाद के सिल्वर लाइन प्रेस्टीज स्कूल में बच्चों द्वारा मनोहारी प्रस्तुतियां प्रस्तुत की गई। स्कूल की तीनों शाखाओं में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को व

‘दुष्यंत एक विचार है और इस विचार आंदोलन को विस्तार दीजिए’
mm 7 Rang
September 2, 2019


दुष्यंत की याद में सालाना जलसा और अलंकरण समारोह ===========================
हर साल की तरह भोपाल के लिए एक सितंबर का दिन यादगार रहा । दुष्यंत कुमार संग्रहालय पांडुलिपि संस्थान ने अपने सालाना जलसे में चुनिंदा रचनाकारों का सम्मान किया और ये सूरत बदलनी चाहिए श्रृंखला के तहत जाने माने पत्रकार राजेश बादल को व्याख्यान के लिए बुलाया। उनकी राय थी कि आज मीडिया पिछले चालीस साल में पहली बार इतने

प्रतिरोध के नाटक के पर्याय हैं राजेश कुमार
mm 7 Rang
September 1, 2019

आज के दौर में राजेश कुमार को उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार

  • कौशल किशोर

राजेश कुमार राजनीतिक व विचार प्रधान नाटकों के लिए जाने जाते हैं। उन्हें उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी की ओर से 2014 के लिए नाटक लेखन के लिए पुरस्कृत किये जाने की घोषणा की गयी है। वैसे राजेश कुमार इन पुरस्कारों स

गुलज़ार कैसे मिले अमृता प्रीतम से
mm 7 Rang
August 31, 2019

गुलज़ार साहब की नज़्में हों या उनकी कविताई का अंदाज़, उनकी ज़िंदगी के फ़लसफ़े हों या साहित्यिक शख्सियतों से उनकी मुलाकातों के किस्से... आप सुनेंगे तो सुनते रह जाएंगे... अमृता प्रीतम की सौंवी सालगिरह मनाते हुए उन्हें चाहने वाले बेशक अमृता जी को अपने अपने तरीके से याद कर रहे हैं, लेकिन ज़रा गुलज़ार साहब और अमृता जी की मुलाकात के ये किस्से भी पढ़ि

नेमिचंद्र जैन को याद करने के मायने
mm 7 Rang
August 24, 2019

 

अपने सौवें वर्ष में नेमिचन्द्र जैन को याद करने के कई कारण हैं - वे पिछली सदी के चैथे दशक में हिन्दी कविता के हरावल दस्ते के सदस्य थे, उन्होंने हिन्दी में उपन्यास की आलोचना को नयी सूक्ष्मता और मूल्यदृष्टि दी, कि वे आज तक उपन्यास के शिखर आलोचक हैं,  उन्होंने हिन्दी नाटक को निरे अकाद

व्याख्या की ज़रूरत और नेमिचंद्र जैन
mm 7 Rang
August 21, 2019

  • रवीन्द्र त्रिपाठी
    किसी बड़े रचनाकार की जन्मशती के मौके पर ये सवाल उठ सकता है कि उसे किस रूप में याद रखा जाए? खासकर अगर वह कई विधाओं में सक्रिय रहा हो तो। नेमिचंद्र जैन (जन्म 1919) की जन्म शती के मौके पर भी उनकी तमाम विधाओं के साथ उन्हें याद करते हुए उनके व्यक्तित्व का एक समग्र खाका खींचने की कोशिश हो

पार्ट टाइम साहित्यकार आज ज़्यादा हैं – त्रिलोचन
mm 7 Rang
August 20, 2019

त्रिलोचन जी से अतुल सिन्हा की यह बातचीत सितंबर 1994 की है और इसे अमर उजाला ने छापा था। बाद में किताबघर ने त्रिलोचन के साक्षात्कारों को जुटाकर 'मेरे साक्षात्कार 'नाम की पुस्तक में भी इसे शामिल किया। 7 रंग परिवार त्रिलोचन जी के जन्मदिन पर उन्हें इसी साक्षात्कार के साथ याद कर रहा है।

अथाह ज्ञान का भंडार रहे त्रिलोचन ब

बरेली में डॉक्यूमेंट्री फिल्मों का उत्सव
mm 7 Rang
August 16, 2019

जाने माने पत्रकार और छायाकार प्रभात सिंह की पहल पर बरेली में ‘संवाद न्यूज़’ और ‘विंडरमेयर’ की तरफ से 18 अगस्त को वृतचित्र उत्सव मनाया जा रहा है। वृत्त चित्र यानी डॉक्यूमेंट्री फिल्मों के इस उत्सव में गांधी जी की 150वीं जयंती और जश्न-ए-आज़ादी पर केन्द्रित फिल्में दिखाई जाएंगी। ये फ़िल्में देश के स्वाधीनता आंदोलन के अलग-अलग पहलुओं का दस्तावेज़ हैं। इस दौरान 4 मिनट से लेकर 38 म

भव्यता का सूनापन
mm 7 Rang
August 13, 2019

  • रवीन्द्र त्रिपाठी

दो-तीन साल पहले जब फिरोज अहमद खान ने बॉलीवुड की बेहद चर्चित फिल्म मुगले आजम’ को रंगमच पर पेश किया तो न सिर्फ फिल्म प्रेमियों को के. आसिफ की उस बहुचर्चित फिल्म की याद फिर से आई बल्कि नाटक की दुनिया में भी उसे एक नए प्रयोग के रूप मे देखा गया। शायद उसी से प्रेरणा लेकर राजीव गोस्वामी ने पिछले हफ्ते जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम के विशाल

Copyright 2017- All rights reserved. Managed by iPistis