इंसानियत के लेखक थे मनु शर्मा – आलोक श्रीवास्तव
mm 7 Rang
November 11, 2017

मैं कार से उतर कर हेमंत जी के पीछे-पीछे घर की सीढ़िया चढ़ने लगा. सीढ़ियां एक बड़े से ड्राइंग रूम के सामने जाकर रुकीं. दायें हाथ की ओर घूमा तो देखा- फर वाली टोपी लगाए, सोफ़े पर एक बुज़ुर्ग बैठे हैं. मेरी तरफ़ उनकी पीठ थी. मैं घूम कर जैसे ही सामने पहुंचा, दंग रह गया. वे मनु शर्मा थे. एकाएक मेरी स्मृतियों में ‘राणा सांगा’, ‘छत्रपति’ और ‘मरीचिका’ मुस्कुराने लगे. 'दौपदी', 'द्रोण', 'कर्ण' और 'कृष्ण' आ

Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis