हम सबके घरों के फ़िल्मकार थे बासु दा

आज फिल्मों का जो दौर चल रहा है, उसमें बासु चटर्जी जैसे फिल्मकार की गैर मौजूदगी भीतर कहीं एक शून्य पैदा करती है। उम्र को अगर नज़रअंदाज कर दें तो बासु दा के भीतर ज़िंदगी को देखने का अपना जो नज़रिया रहा वो 60 के दशक से आज तक वैसा ही रहा। आखिरी दिनों में भी उनके भीतर का फिल्मकार विषय तलाशता रहा लेकिन पिछले कुछ बरसों से वो चाहकर भी कुछ नया दे नहीं पाए। साहित्य में उनकी खासी दिलचस्पी थी और उनकी हर फिल्म किसी न किसी छपी हुई कहानी से निकलती और उनकी दृष्टि इस कहानी को आम आदमी से जोड़ कर किरदार गढ़ती और परदे पर पेश कर देती। 

Posted Date:

June 4, 2020

7:28 pm
Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis