‘शब्दिता’ की गोष्ठी में साहित्य के कई रंग

लखनऊ केवल पुस्तक मेलों का शहर नहीं हैं। यहाँ अनेक स्तरीय साहित्यिक पत्रिकाओं का प्रकाशन भी होता है। रचनाकारों की गोष्ठियां और बैठकें भी होती रहतीं है जहाँ नए और पुराने साहित्यकर्मियों को साझा मंच भी उपलब्ध होता है। ऐसी ही एक गोष्ठी लखनऊ से प्रकाशित छमाही पत्रिका “ शब्दिता “ पर केन्द्रित थी। इसमें पत्रिका के जुलाई-दिसम्बर 2018 के अंक की विविधतापूर्ण रचनाओं पर विस्तार से चर्चा हुई। इस अंक में जो रचनाएँ प्रकाशित हुईं उसमें लखनऊ  के सात रचनाकार शामिल हैं। इनमें से छः रचनाकारों और पत्रिका के प्रधान संपादक डा0 राम कठिन सिंह ने गोष्ठी में  भाग लिया।

 

Posted Date:

January 17, 2019

4:13 pm
Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis