ये पैरों की थिरकन और कथक की ये अदा…

बिरजू महाराज को लंबे समय से नृत्य करते देखता रहा हूं। चार फरवरी को उन्होंने अपने जीवन के 80 वर्ष पूरे कर लिए लेकिन संभव है अगले कुछ दिनों में वे फिर किसी मंच पर तत्कार कर रहे हों या गिनती की तिहाइयां दिखा रहे हों। वे खुद बताते हैं कि महज चार साल की उम्र रही होगी जब नृत्य करना शुरू कर दिया था। पिता को नृत्य करते देखते और रसोई में जाकर मां के सामने उसकी नकल दिखाते। छोटे-छोटे पैर, गिरते-फिर संभलते। मां महादेयी नृत्य नहीं करती थीं लेकिन बाद में उन्होंने गुरु की परोक्ष भूमिका निभाई क्योंकि पिता का साया महज नौ साल की उम्र में उठ गया।

Posted Date:

February 4, 2019

11:49 pm
Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis