मिट्टी को आज भी याद हैं वे रंग…

ज़िंदगी के महज 28 सालों में कोई कितना कुछ कर सकता है, कितनी उपलब्धियां हासिल कर सकता है और कौन सा मुकाम हासिल कर सकता है… यह जानना है तो महान पेंटर और भारतीय कला को एक नया आयाम देकर अमर हो जाने वाली अमृता शेर गिल को याद कीजिए। भारतीय कला की जब भी बात होती है, राजा रवि वर्मा को तो सब याद करते ही हैं लेकिन आधुनिक भारतीय कला की जनक के तौर पर अगर किसी का नाम लिया जाता है तो वह अमृता शेरगिल हैं। अमृता ने कहां कहां अपने रंगों की भाषा में इबारतें लिखीं और कौन सी वो हवेली है जहां अमृता ने कुछ साल गुज़ारे, अपनी बेहतरीन पेंटिंग्स बनाई… इसकी तलाश की कलाकार और पत्रकार देव प्रकाश चौधरी ने। 

Posted Date:

October 14, 2017

5:03 pm
Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis