दिल का खिलौना हाय टूट गया…

उस्ताद बिस्मिल्ला खां को गुज़रे आज 12 साल हो गए, लेकिन न तो शहनाई का कोई और उम्दा कलाकार उभर कर सामने आ सका और न ही शहनाई का वो रुआब अब बाकी रह गया। शादी-ब्याह के दौरान, तमाम शुभ अवसरों पर शहनाई का बजना एक परंपरागत और बेहद संजीदा माहौल पैदा करता था। बिस्मिल्ला खां तब भी सबके आदर्श थे और तमाम पेशेवर शहनाईवादक उनकी ही धुनें बजाने को अपनी शान समझते थे। खासकर फिल्म गूंज उठी शहनाई के उस गीत की धुन जिसके लिए खुद खां साहब ने शहनाई बजाई थी – ‘दिल का खिलौना हाय टूट गया’। या फिर – ‘तेरे सुर और मेरे गीत’।

Posted Date:

August 21, 2018

8:54 pm
Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis