चोर दरवाजों में सजी ‘भक्ति’ की दुकानें

वरिष्ठ पत्रकार श्रीचंद्र कुमार पिछले दिनों पश्चिम बंगाल के कुछ तीर्थ और पर्यटन स्थलों पर गए। मुख्य रूप से उनका मकसद गंगा सागर जाना था और वो वहां गए भी। लेकिन वहां जाने से पहले उन्होंने कई और धार्मिक स्थलों को घुमक्कड़ी और पत्रकार वाले अंदाज़ में देखा। पहले वो बंगाल के बीरभूम जिले के मशहूर तीर्थ तारापीठ गए फिर कोलकाता के शक्तिपीठ यानी काली मंदिर। बरसों से इस देश में पंडितों औत पंडों ने कैसे इन तीर्थस्थलों को कमाई का ज़रिया बना रखा है और कैसे वीआईपी दर्शन के नाम पर इनकी दुकान चलती है, इसका एक आंखों देखा हाल श्रीचंद्र जी ने इस यात्रा वृतांत में बताने की कोशिश की है। आप भी पढ़िए।

 

 

Posted Date:

January 19, 2019

9:32 am
Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis