क्योंकि अटल जी आज भी अटल हैं…

वो सत्तर के दशक का शुरूआती दौर था… चुनावी राजनीति की बहुत समझ नहीं थी, लेकिन दो चुनाव चिन्ह की पहचान ज़रूर थी – जलता हुआ दीपक और गाय और बछड़ा – एक भारतीय जनसंघ का और दूसरा कांग्रेस का। और दो ही ऐसे नाम थे जिनके बारे में बार बार सुनते थे, अखबारों में देखते और पढ़ते थे… इंदिरा जी और अटल जी।…उनके 93वें जनमदिन पर कुछ औपचारिकताएं निभाई जाएंगी, कुछ फूलों के गुलदस्ते उनतक पहुंचेंगे और एक संवेदनशील कवि अपनी साहित्यिक और सियासी अतीत की दुनिया के कुछ पन्ने पलटने की कोशिश करेगा। अटल जी की अच्छी सेहत के लिए दुआओं के साथ उन्हें 7 रंग की तरफ से जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं।…

Posted Date:

December 24, 2016

11:17 pm
Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis