और अब कपिला जी भी साथ छोड़ गईं…

इस कोरोना काल ने बहुतों को हमसे छीना है। कुछ तो उम्र के उस पड़ाव पर थे, तो कुछ असमय ही अलविदा कह गए। देश में सांस्कृतिक चेतना और इसके विस्तार के क्षेत्र में अद्भुत योगदान देने वाली कपिला वात्यायन भी आखिरकार चली गईं। कपिला जी बेशक 91 साल की हो चुकी थीं, लेकिन उनकी सांस्कृतिक चेतना आखिरी वक्त तक पूरी तरह बरकरार रही। कपिला जी को कला के क्षेत्र में अद्भुत योगदान के लिए पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। राज्यसभा की वो पूर्व मनोनीत सदस्य रहीं। कपिला जी इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र की संस्थापक सचिव थीं और इंडिया इंटरनेशनल सेंटर की आजीवन ट्रस्टी भी थीं।

Posted Date:

September 16, 2020

4:04 pm
Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis