इतने रंग एक साथ – ‘नाद रंग’ पढ़िए

आज के दौर में अगर लघु पत्रिका और खासकर इस विषय पर केन्द्रित एक पत्रिका को निकालने की हिम्मत जुटाना आसान काम नहीं। लेकिन युवा पत्रकार आलोक पराड़कर की तारीफ करनी होगी कि उन्होंने अपने इस जज़्बे को बरकरार रखते हुए ‘नाद रंग’ निकालने का साहस किया। व्यावसायिकता और बाज़ारीकरण के इस दौर में पत्रिका निकाल पाना और उसे चला पाना कठिन चुनौती है और खासकर तब भी जब ‘डिजिटल युग’ और ‘मोबाइलीकरण’ ने लिखने पढ़ने का नज़रिया ही बदल दिया हो और लोगों की आदतें बदल दी हों।

Posted Date:

October 4, 2017

5:53 pm
Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis