अब हर इतवार, कला का बाज़ार

ललित कला अकादमी गढ़ी केंद्र पर शुरू हुआसन्डे आर्ट हाट

कला अपनी भावनाएं अभिव्यक्त करने का सिर्फ़ एक रचनात्मक माध्यम होने के अलावा भी बहुत कुछ है. आज की व्यापारपरक होती दुनिया में एक कलाकार का व्यावसायिक होना ज़रूरी हो चुका है अन्यथा उद्यमों से भरे समाज में वह पीछे छूट जायेगा. और दुनिया भर में क्रिस्टीज़, सोथबीज़, सैफरन आर्ट सरीखे आर्ट ऑक्शन हाउसेज़ की बढ़ती संख्या इस बात का सबूत है कि कला सिर्फ़ अभिव्यक्ति के माध्यम के टैग से काफ़ी आगे निकल कर एक प्रोफेशन बन चुका है और इस क्षेत्र में बने रहने के लिए कलाकार का कला उद्योग से जुड़ के चलना अनिवार्य हो चुका है. हमारे देश में भी दृश्य कुछ अलग नहीं है.

लेकिन अफ़सोस की बात है कि जिस देश में सैकड़ों की संख्या में कला इंस्टिट्यूट, कॉलेज, आर्ट स्कूल और हज़ारों आर्ट गैलरीज़ हैं, वहीं हज़ारों की संख्या में इन इंस्टिट्यूट से निकलने वाले हमारे युवा कलाकारों और साथ ही साथ सीनियर्स को प्रदर्शित करने और उन्हें कला उद्योग की मुख्यधारा से जोड़ने वाली गैलरियों की संख्या कितनी हैं? और जिन कलाकारों को गैलरी प्रमोट करने के लिए आगे आती भी हैं उन्हें फिर इसके लिए कमीशन के रूप में क़ीमत चुकानी होती है. अब ऐसे परिदृश्य में कलाकार जाये भी तो कहां? इसी सवाल के जवाब के रूप में ललित कला अकादमी ने ‘सन्डे आर्ट हाट’ नाम से एक पहल की है जिसमें कलाकार किसी भी मध्यस्थ और कमीशन से मुक्त स्वयं आर्ट बायर्स से सीधा संवाद स्थापित कर पाएंगे.

सन्डे आर्ट हाट का उद्घाटन अकादमी के प्रशासक श्री सि एस कृष्ण सेट्टी ने किया। उद्घाटन के अवसर पर उन्होंने कहा कि “यह युवा और उन उभरते हुए कलाकारों के लिए एक अनोखा अवसर है जिनके पास किसी गैलरी का स्थायी सपोर्ट नहीं है या फिर प्रदर्शनी के नाम पर बड़े आर्टवर्क तैयार नहीं हैं. वहीं विदेशों में ऐसा नहीं हैं. पेरिस, लंदन, न्यू यॉर्क आदि शहरों में लोगों को पता होता है कि हर रविवार या फिर हफ्ते के चुने दिन पर फलां जगह आर्ट बाज़ार आयोजित हो रहा होगा. और यह बात पर्यटकों को भी मालूम होती है कि किस जगह उन्हें अफोर्डेबल रेट्स पर आर्टवर्क मिल जायेंगे. तो यहसंडे आर्ट हाटउसी दिशा में एक कदम है. अभी कलाकारों से केंद्र पर स्टाल्स के लिए मामूली शुल्क लिया जा रहा है, पर हमारा प्रयास रहेगा कि आने वाले समय में कलाकारों को ललित कला अकादमी निःशुल्क स्थान उपलब्ध करवाए.” सन्डे आर्ट हाट के लिए स्थाई स्पेस बनवाने की योजना का ज़िक्र करते हुए श्री सेट्टी ने बताया, “आर्ट कलेक्टर्स और बायर्स के लिए यह किसी प्रकार के कमीशन से मुक्त, सीधे कलाकारों से उचित क़ीमत पर आर्टवर्क ख़रीदने का एक सुनहरा मौका है.

उद्घाटन के मौके पर ललित कला अकादेमी की सचिव प्रभारी श्रीमती विशालाक्षी निगम, गढ़ी केंद्र के सचिव प्रभारी श्री भीषम मिरानी, प्रतिभागी कलाकार राजेश श्रीवास्तव, रितुपर्णा चोपड़ा, कुमुद मोहिंदर, रेखा कपूर आदि और तमाम कला कलेक्टर और बायर्स मौजूद रहे.

संडे आर्ट हाट को लेकर कलाकारों में काफ़ी उत्साह है। आने वाले संडे के लिए भी अकादमी के पास बुकिंग आनी शुरू हो गयी हैं। संडे आर्ट हाट में बहुत से कला प्रेमी और बायर्स भी पहुँच रहे हैं।

(ललित कला अकादमी की प्रेस विज्ञप्ति)

Posted Date:

September 10, 2017

3:15 pm Tags: , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright 2020 @ Vaidehi Media- All rights reserved. Managed by iPistis